Sunday, July 14, 2024
HomeEventSafdarjung Hospital : कार्डियक रिहैबिलिटेशन पर वर्कशॉप आयोजित 

Safdarjung Hospital : कार्डियक रिहैबिलिटेशन पर वर्कशॉप आयोजित 

वर्ष 1772 में, डॉक्टर सर विलियम हेबर्डन (Sir William Heberden) द्वारा हृदय पुनर्वास की शुरुवात की गई थी। 300 साल के बाद भी हृदय पुनर्वास अभी भी अपने लक्ष्य से बहुत पीछे है।

Join Whatsapp Channel Join Now
Join Telegram Group Join Now
Follow Google News Join Now

सफदरजंग अस्पताल (Safdarjung Hospital) के शारीरिक चिकित्सा पुनर्वास विभाग ने कार्यक्रम आयोजित किया

Safdarjung Hospital Delhi : सफदरजंग अस्पताल और वर्धमान महावीर मेडिकल कॉलेज (Vardhaman Mahaveer Medical College) में शारीरिक चिकित्सा एवं पुनर्वास विभाग (Department of Physical Medicine and Rehabilitation) द्वारा कार्डियक रिहैबिलिटेशन (cardiac rehabilitation)  सीएमई & वर्कशॉप आयोजित किया गया।
व्याख्यान सभागार में आयोजित इस कार्यक्रम में विभागाध्यक प्रोफेसर डॉक्टर आर के वाधवा (Professor Dr. RK Wadhwa, Head of PMR Department Safdarjung Hospital) और ऑर्गेनाइजिंग  सेक्रेटरी डॉक्टर सुमन बधाल मौजूद रहे।

पत्रिका का विमोचन

कार्डियक रिहैबिलिटेशन पर वर्कशॉप आयोजित
कार्डियक रिहैबिलिटेशन पर वर्कशॉप आयोजित
इस कार्यक्रम में सफदरजंग अस्पताल की चिकित्सा अधीक्षक प्रोफेसर वंदना तलवार (Safdarjang Hospital Medical Superintendent Professor Vandana Talwar) बतौर मुख्य अतिथि शिरकत कर रहीं थी। इस दौरान 85 चिकित्सकों ने इस वर्कशॉप का लाभ उठाया।
कार्यक्रम के दौरान रोगी स्वास्थ्य शिक्षा पत्रिका (patient health education magazine) का विमोचन भी किया गया। जिसे डॉक्टर सुमन, पूनम ढांडा, स्वास्थ्य सामाजिक कल्याण अधिकारी (Health Social Welfare Officer) एवम विजय कुमार स्वास्थ्य शिक्षक ने तैयार किया था। पत्रिका का  विमोचन चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर वंदना तलवार ने किया।

क्या है Cardiac rehabilitation 

कार्डियक रिहैबिलिटेशन पर वर्कशॉप आयोजित
कार्डियक रिहैबिलिटेशन पर वर्कशॉप आयोजित
वर्ष 1772 में, डॉक्टर सर विलियम हेबर्डन (Sir William Heberden) द्वारा हृदय पुनर्वास की शुरुवात की गई थी। 300 साल के बाद भी हृदय पुनर्वास अभी भी अपने लक्ष्य से बहुत पीछे है।
शारीरिक गतिविधि के लाभों के कुछ सबूतों के बावजूद, तीव्र कोरोनरी घटनाओं वाले रोगियों (patients with acute coronary events) पर गतिशीलता प्रतिबंध (mobility restrictions) लगाया गया था। जिससे अक्सर गंभीर डिकंडिशनिंग समस्याएं (severe deconditioning problems), कार्यात्मक क्षमता में गिरावट (decline in functional capacity), लंबे समय तक अस्पताल में रहना और रुग्णता और मृत्यु दर में वृद्धि (increase in morbidity and mortality) हुई।
1950 के दशक की शुरुआत में कोरोनरी की घटनाओं के 4 सप्ताह बाद 3 से 5 मिनट की बहुत छोटी दैनिक सैर की अनुमति दी गई थी। धीरे-धीरे, यह पहचाना गया कि जल्दी-जल्दी चलने-फिरने से बिस्तर पर आराम करने की वजह से होने वाली जटिलताओं से बचा जा सकता है और इससे जोखिम भी नहीं बढ़ता।
कार्डियक रिहैबिलिटेशन पर वर्कशॉप आयोजित
कार्डियक रिहैबिलिटेशन पर वर्कशॉप आयोजित
हृदय पुनर्वास द्वारा हृदय रोगियों (heart patients) को ठीक होने में और उनकी कार्यात्मक और मानसिक स्थिति को अनुकूलित करने (to optimize functional and mental status) में मदद मिलती है। जिससे रोगी अपनी दिनचर्या व रोजमर्रा के काम जल्दी करने लगता है।
यहां बता दें कि कार्डियोवैस्कुलर रोगों (cardiovascular diseases) का बोझ वैश्विक स्तर की तुलना में भारत पर अधिक है। भारत में इसकी दर 23 प्रतिशत हैं (Cardiovascular diseases rate in India is 23 percent)। जबकि, इसकी वैश्विक दर 14 प्रतिशत है (Global rate of cardiovascular diseases is 14 percent)। विदेशो व भारत के निजी स्वास्थ्य केन्द्रों अथवा संस्थानों में पूर्ण रूप से हृदय पुनर्वास को अपनाया जा चुका है। इससेकर्डियोवस्कुलर मरीजों की रिकवरी में काफी लाभ भी मिल रहा है। इस विधि से मरीजों के जीवन की गुणवत्ता भी बेहतर हो रही है।


नोट: यह लेख मेडिकल रिपोर्टस से एकत्रित जानकारियों के आधार पर तैयार किया गया है।

अस्वीकरण: caasindia.in में प्रकाशित सभी लेख डॉक्टर, विशेषज्ञों व अकादमिक संस्थानों से बातचीत के आधार पर तैयार किए जाते हैं। लेख में उल्लेखित तथ्यों व सूचनाओं को caasindia.in के पेशेवर पत्रकारों द्वारा जांचा व परखा गया है। इस लेख को तैयार करते समय सभी तरह के निर्देशों का पालन किया गया है। संबंधित लेख पाठक की जानकारी व जागरूकता बढ़ाने के लिए तैयार किया गया है। caasindia.in लेख में प्रदत्त जानकारी व सूचना को लेकर किसी तरह का दावा नहीं करता है और न ही जिम्मेदारी लेता है। उपरोक्त लेख में उल्लेखित संबंधित बीमारी/विषय के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

 

caasindia.in सामुदायिक स्वास्थ्य को समर्पित हेल्थ न्यूज की वेबसाइट

Read : Latest Health News|Breaking News|Autoimmune Disease News|Latest Research | on https://www.caasindia.in|caas india is a multilingual website. You can read news in your preferred language. Change of language is available at Main Menu Bar (At top of website).
Join Whatsapp Channel Join Now
Join Telegram Group Join Now
Follow Google News Join Now
Caas India - Ankylosing Spondylitis News in Hindi
Caas India - Ankylosing Spondylitis News in Hindihttps://caasindia.in
Welcome to caasindia.in, your go-to destination for the latest ankylosing spondylitis news in hindi, other health news, articles, health tips, lifestyle tips and lateset research in the health sector.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Article