Sunday, April 21, 2024
HomeNewsDelhiDelhi Aiims : 25 हजार से भी अधिक मरीजों के लिए संकटमोचक...

Delhi Aiims : 25 हजार से भी अधिक मरीजों के लिए संकटमोचक बनी आयुष्मान भारत योजना

एम्स, आयुष्मान भारत योजना  (AIIMS Delhi, PMJAY) के तहत व्यापक देखभाल प्रदान करने की अपनी प्रतिबद्धता पर कायम है। जिसमें किडनी प्रत्यारोपण (kidney transplant) से लेकर कूल्हे की रिप्लेस्मेंट सर्जरी (hip replacement surgery) और अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण (bone marrow transplant) तक के चिकित्सा हस्तक्षेप शामिल हैं।

Join Whatsapp Channel Join Now
Join Telegram Group Join Now
Follow Google News Join Now

दिल्ली में योजना लागू न होने से 30 प्रतिशत दिल्लीवासी लाभ से वंचित

Delhi Aiims News : दिल्ली एम्स में 25 हजार से भी अधिक मरीजों के लिए आयुष्मान भारत योजना (Ayushman Bharat Scheme) संकटमोचक साबित हुई है। दिल्ली में इस योजना के लागू न होने से 30 प्रतिशत दिल्लीवासी इस योजना के लाभ से अबतक वंचित हैं।
एम्स में उपचार के लिए आने वाले आर्थिक रूप से लाचार मरीजों (Financially helpless patients coming for treatment in AIIMS) के लिए इस योजना के तहत वार्षिक चिकित्सा उपचार के लिए 5 लाख रुपये तक मिलने वाली राशि जीवन रेखा साबित हो रही है।

Delhi Aiims : अप्लास्टिक एनीमिया से जूझ रही लोवनेई होकिप को मिली नई जिंदगी

आयुष्मान भारत योजना (PMJAY) की लाभार्थियों में से एक 20 वर्षीय युवती लोवनेई होकिप को इस योजना की बदौलत नई जिंदगी मिली है। वित्तीय समस्या के कारण वह लंबे समय से उपचार से वंचित थी। आयुष्मान भारत योजना के तहत उसकी पात्रता का पता चलने पर इनकी निराश जिंदगी में एक आशा का संचार हुआ। होकिप इस योजना और इसके जरिए मिलने वाली सहायता के लिए सरकार के प्रति आभार व्यक्त करती हैं।

दिल्ली में लागू होता तो राजधानीवासियों को भी मिलता योजना का लाभ 

दिल्ली-एम्स (Delhi Aiims) में आयुष्मान भारत योजना की देखरेख का जिम्मा संभाल रहे प्रोफेसर वीके बंसल (Professor VK Bansal) के मुताबिक, आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत (Launch of PMJAY) के बाद से 25,000 से अधिक लोगों ने इलाज प्राप्त किया है। हालांकि, राष्ट्रीय राजधानी में योजना (Ayushman Bharat scheme in the national capital Delhi) के कार्यान्वयन न होने के कारण दिल्ली के 30 प्रतिशत निवासी इसके लाभ से वंचित हैं।

25 हजार से भी अधिक मरीजों के लिए संकटमोचक बनी आयुष्मान भारत योजना
25 हजार से भी अधिक मरीजों के लिए संकटमोचक बनी आयुष्मान भारत योजना | Photo : Canva
तमाम चुनौतियों से निपटते हुए एम्स, आयुष्मान भारत योजना  (AIIMS Delhi, PMJAY) के तहत व्यापक देखभाल प्रदान करने की अपनी प्रतिबद्धता पर कायम है। जिसमें किडनी प्रत्यारोपण (kidney transplant) से लेकर कूल्हे की रिप्लेस्मेंट सर्जरी (hip replacement surgery) और अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण (bone marrow transplant) तक के चिकित्सा हस्तक्षेप शामिल हैं।

कैंसर रोगियों को मिली है सबसे बडी राहत 

एम्स में इस योजना के कार्यान्वयन की देखरेख करने वाले सहायक प्रोफेसर अब्दुल हकीम (Assistant Professor Abdul Hakeem) के मुताबिक आयुष्मान भारत योजना के तहत कैंसर का इलाज (Cancer treatment under Ayushman Bharat scheme) एम्स के प्रयासों की सबसे बडी उपलब्धि साबित हो रही है। जिसमें 5100 से अधिक मरीजों को निरंतर उपचार दिया जा रहा है।
संस्थान की मीडिया सेल प्रमुख डॉक्टर रीमा दादा (Media cell head Dr. Reema Dada) के मुताबिक इस योजना के तहत किडनी प्रत्यारोपण की जरूरत वाले मरीजों को भी लाभ मिल रहा है। एम्स निदेशक प्रोफेसर एम श्रीनिवास (AIIMS Director Professor M Srinivas) ने कहा कि एबीपीएमजेएवाई योजना (ABPMJAY Scheme) का प्रभावी कार्यान्वयन सुलभ स्वास्थ्य देखभाल की परिवर्तनकारी शक्ति के प्रमाण के रूप में सामने आया है। जिसके कारण लाखों लोगों के स्वास्थ्य और जीवन को बेहतर बनाने में आसानी हो रही है।
यहां बता दें कि इस योजना के तहत वर्तमान में 1109 पैकेज उपलब्ध हैं। जिसके तहत 1949 उपचार प्रक्रिया प्रदान की जाती है। एम्स में 23260 लाभार्थियों ने इस योजना के तहत लाभ उठाया है। जिनमें मेडिकल ऑन्कोलॉजी के 5179, ऑप्थलमोनोलॉजी के 4275 जेनरल मेडिसिन के 3169 ऑर्थोपेडिक्स के 2260 और न्यूरोलॉजी के 2223 मरीजों को लाभ मिला है।

कॉम्पलैक्स सर्जरी का भी मिला है लाभ 

  • टोटल रेनल ट्रांस्प्लांट – 04
  • टोटल बोन मैरो ट्रांस्प्लांट – 01
  • टोटल नी रिप्लेसमेंट – 148
  • रिविजन नी रिप्लेस्टमेंट – 17
  • टोटल हिप रिप्लेसमेंट – 557
  • रिविजन टोटल हिप रिप्लेस्टमेंट – 45
  • कॉन्जेनाइटल हार्ट डीजीज – 730
  • ओरल एंड मैक्सिलरी (स्पेशल केस) – 27

 


नोट: यह लेख मेडिकल रिपोर्टस से एकत्रित जानकारियों के आधार पर तैयार किया गया है।

अस्वीकरण: caasindia.in में प्रकाशित सभी लेख डॉक्टर, विशेषज्ञों व अकादमिक संस्थानों से बातचीत के आधार पर तैयार किए जाते हैं। लेख में उल्लेखित तथ्यों व सूचनाओं को caasindia.in के पेशेवर पत्रकारों द्वारा जांचा व परखा गया है। इस लेख को तैयार करते समय सभी तरह के निर्देशों का पालन किया गया है। संबंधित लेख पाठक की जानकारी व जागरूकता बढ़ाने के लिए तैयार किया गया है। caasindia.in लेख में प्रदत्त जानकारी व सूचना को लेकर किसी तरह का दावा नहीं करता है और न ही जिम्मेदारी लेता है। उपरोक्त लेख में उल्लेखित संबंधित बीमारी/विषय के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

 

caasindia.in सामुदायिक स्वास्थ्य को समर्पित हेल्थ न्यूज की वेबसाइट

Read : Latest Health News|Breaking News|Autoimmune Disease News|Latest Research | on https://www.caasindia.in|caas india is a multilingual website. You can read news in your preferred language. Change of language is available at Main Menu Bar (At top of website).
Join Whatsapp Channel Join Now
Join Telegram Group Join Now
Follow Google News Join Now
Caas India - Ankylosing Spondylitis News in Hindi
Caas India - Ankylosing Spondylitis News in Hindihttps://caasindia.in
Welcome to caasindia.in, your go-to destination for the latest ankylosing spondylitis news in hindi, other health news, articles, health tips, lifestyle tips and lateset research in the health sector.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Article