Friday, April 19, 2024
HomeLatest ResearchNew Cancer Treatment Breakthrough : Cancer Recurrence को रोक सकती है यह...

New Cancer Treatment Breakthrough : Cancer Recurrence को रोक सकती है यह 100 रुपए की गोली

एक रिपोर्ट के मुताबिक, संस्थान ने एक ऐसी गोली बनाई है। दावा है कि यह कीमोथेरेपी जैसे कैंसर उपचार के दुष्प्रभावों को लगभग 50 प्रतिशत तक कम कर देगी और दूसरी बार कैंसर होने की संभावना को 30 प्रतिशत तक कम कर देगी।

Join Whatsapp Channel Join Now
Join Telegram Group Join Now
Follow Google News Join Now

Tata Memorial Centre (TMC) Hospital ने किया दावा

New Cancer Treatment Breakthrough News : मुंबई के टाटा मेमोरियल सेंटर (Tata Memorial Center, Mumbai) ने दोबारा कैंसर होने से रोकने वाली दवा (medicine to prevent cancer recurrence) ढूंढने का दावा किया है। यहां सबसे खास बात यह है कि कैंसर के दोहराव को रोकने वाली इस गोली की कीमत (Price of pill that prevents recurrence of cancer) महज 100 रुपए हैं।
एक रिपोर्ट के मुताबिक, संस्थान ने एक ऐसी गोली बनाई है। दावा है कि यह कीमोथेरेपी जैसे कैंसर उपचार के दुष्प्रभावों को लगभग 50 प्रतिशत तक कम कर देगी और दूसरी बार कैंसर होने की संभावना को 30 प्रतिशत तक कम कर देगी।

क्या है Cancer Recurrence रोकने वाली गोली ?

रिपोर्ट में टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल के वरिष्ठ कैंसर सर्जन डॉ. राजेंद्र बडवे (Dr. Rajendra Badve, Senior Cancer Surgeon, Tata Memorial Hospital) के हवाले से यह जानकारी दी गई है कि इस टैबलेट को रेस्वेराट्रोल और कॉपर (R+Cu) से तैयार किया गया है। यह संयोजन ऑक्सीजन रेडिकल्स का उत्पादन करता है, जो कीमोथेरेपी विषाक्तता (chemotherapy toxicity) और मेटास्टेसिस (Metastasis) को रोकता है। इस दवा (medicine to prevent cancer recurrence) को विशेषतौर से अग्न्याशय (pancreas), फेफड़े और मौखिक कैंसर के खिलाफ प्रभावी (medicine Effective against lung and oral cancer) होने का दावा किया जा रहा है।

New Cancer Treatment Breakthrough : कैसे काम करती है यह दवा?

Cancer Recurrence को रोक सकती है यह 100 रुपए की गोली
Cancer Recurrence को रोक सकती है यह 100 रुपए की गोली | Photo : Canva
जब किसी रोगी का विकिरण चिकित्सा (radiation therapy), कीमोथेरेपी या सर्जरी का उपयोग करके कैंसर का इलाज (Cancer treatment with chemotherapy or surgery) किया जाता है, तो कैंसर कोशिकाएं मर जाती हैं। जिसके बाद मृत कोशिकाएं छोेटे टुकडों में टूट जाती है। इन्हें क्रोमैटिन कण (chromatin particles) कहा जाता है।
ये कण रक्त के माध्यम से अपना स्थान बदलकर स्वस्थ कोशिकाओं में प्रवेश करते हैं। कई  बार ऐसे में स्वस्थ कोशिकाएं भी कैंसरग्रस्त हो जाती है। ये क्रोमेटिन कण स्वस्थ गुणसूत्रों (healthy chromosomes) के साथ भी मिल सकते हैं और ट्यूमर का कारण बन सकते हैं। R+Cu टैबलेट (R+Cu tablets) ऑक्सीजन कण उत्पन्न करता है जो इन क्रोमैटिन कणों को नष्ट कर देता है। गोली के तौर पर इसका सेवन करने पर यह गोली पेट में ऑक्सीजन के कण बनाती है, जो बाद में रक्त प्रवाह में अवशोषित (absorbed into the bloodstream) हो जाते हैं।

बाजार में कब उपलब्ध होगी यह गोली 

डॉ. बडवे के मुताबिक, टैबलेट के अनुमोदन के लिए भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI)  के पास आवेदन भेजा गया है। इस वर्ष जून-जुलाई तक इस गोली के बाजार में उपलब्ध होने की संभावना है। उन्होंने कहा, ”कैंसर के उपचार का बजट जहां लाखों से करोड़ों तक होत है, वहीं यह टैबलेट सिर्फ 100 रुपये में हर जगह उपलब्ध होगी।”
यहां बता दें कि पिछले साल, टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल, मुंबई (Tata Memorial Hospital, Mumbai) और एडवांस्ड सेंटर फॉर ट्रेनिंग रिसर्च एंड एजुकेशन इन कैंसर (ACTREC) नवी मुंबई ने आईडीआरएस लैब्स, बैंगलोर के सहयोग से ओरल कैंसर की दवा “प्रीवेल” (Oral cancer drug “Prevail”) लॉन्च करने की घोषणा की थी। यह कीमो दवा 6-मर्कैप्टोप्यूरिन (mercaptopurine) का तरल संस्करण था।
इसका उपयोग तीव्र लिम्फोब्लास्टिक ल्यूकेमिया (acute lymphoblastic leukemia) जैसे रक्त से संबंधित कैंसर (blood related cancer) के उपचार के लिए किया जाता है। इसे केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (CDSCO)  द्वारा अनुमोदित किया गया था। उम्मीद की जा रही है कि यह दवा भी शीघ्र ही देशभर के अस्पताल फार्मेसियों में उपलब्ध होंगी।

नोट: यह लेख मेडिकल रिपोर्टस से एकत्रित जानकारियों के आधार पर तैयार किया गया है।

अस्वीकरण: caasindia.in में प्रकाशित सभी लेख डॉक्टर, विशेषज्ञों व अकादमिक संस्थानों से बातचीत के आधार पर तैयार किए जाते हैं। लेख में उल्लेखित तथ्यों व सूचनाओं को caasindia.in के पेशेवर पत्रकारों द्वारा जांचा व परखा गया है। इस लेख को तैयार करते समय सभी तरह के निर्देशों का पालन किया गया है। संबंधित लेख पाठक की जानकारी व जागरूकता बढ़ाने के लिए तैयार किया गया है। caasindia.in लेख में प्रदत्त जानकारी व सूचना को लेकर किसी तरह का दावा नहीं करता है और न ही जिम्मेदारी लेता है। उपरोक्त लेख में उल्लेखित संबंधित बीमारी/विषय के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

 

caasindia.in सामुदायिक स्वास्थ्य को समर्पित हेल्थ न्यूज की वेबसाइट

Read : Latest Health News|Breaking News|Autoimmune Disease News|Latest Research | on https://www.caasindia.in|caas india is a multilingual website. You can read news in your preferred language. Change of language is available at Main Menu Bar (At top of website).
Join Whatsapp Channel Join Now
Join Telegram Group Join Now
Follow Google News Join Now
Caas India - Ankylosing Spondylitis News in Hindi
Caas India - Ankylosing Spondylitis News in Hindihttps://caasindia.in
Welcome to caasindia.in, your go-to destination for the latest ankylosing spondylitis news in hindi, other health news, articles, health tips, lifestyle tips and lateset research in the health sector.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Article