Sunday, February 25, 2024
HomeHealth TipsGreen Gram Leaves Benefits : ठंड के मौसम में यह साग सेहत...

Green Gram Leaves Benefits : ठंड के मौसम में यह साग सेहत के लिए है बेजोड

Join Whatsapp Channel Join Now
Join Telegram Group Join Now
Follow Google News Join Now

सेहत के साथ स्वाद में भी बेहतरीन

Saag Khane Ke Fayde : ठंड के मौसम में साग खाने के बहुत सारे फायदे हैं। अगर चने की साग (Green Gram Leaves Benefits)  की बात हो तो इसकी बात ही अलग है। चने का साग सेहत के साथ स्वाद के लिहाज से भी बेहतर होता है। रिसर्च में भी यह स्पष्ट हो चुका है कि पोषण और सेहत के मामले में अन्य सागों के मुकाबले चने का साग बेहतरीन है।

चने के साग में भरपूर मात्रा में प्रोटीन, फाइबर, आयरन, कैल्शियम और कई तरह के विटामिन्स मौजूद होते हैं। इसके पत्तों में कई तरह के माइक्रोन्यूट्रेंट्स और एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं। जो हर तरह की क्रोनिक बीमारियों से बचाते हैं। अगर आप चने के साग को अपने आहार में शामिल करते हैं तो डायबिटीज, हार्ट डिजीज और मोटापा जैसी क्रोनिक बीमारियों के जोखिम से बच सकते हैं। चने के साग को अगर बाजरे की रोटी के साथ खाया जाए तो यह सुपरफुड बन जाता है। इससे भोजन का फायदा (Green Gram Leaves Benefits) डबल हो जाएगा क्योंकि बाजरे को आहार में शामिल करने से भी क्रॉनिक बीमारियों का जोखिम कम होता है।

चने का साग क्यों है इतना गुणवान| Green Gram Leaves Benefits

सभी सागों में चने के साग को ऐसे ही सर्वश्रेष्ठ नहीं बताया गया है बल्कि वैज्ञानिक दृष्टिकोण से भी इसकी पुष्टि हो चुकी है। इकोनोमिक टाइम्स में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक चने के पत्ते के संबंध में जर्नल ऑफ द साइंस ऑफ फूड एंड एग्रीकल्चर (USA and UK) में बाकायदा एक रिसर्च प्रकाशित किया गया है।

रिसर्च के मुताबिक पालक, सरसों, मेथी के साग के मुकाबले चने के साग में (Green Gram Leaves Benefits) गई गुना ज्यादा पोशक तत्वों की मौजूदगी है। अध्ययन में इस बात पर जोर दिया गया है कि अगर चने का साग गरीबी और कुपोषण की समस्या से पीडित क्षेत्रों में की जाए तो यह कुपोषण की समस्या का समाधान बन सकता है। विशेषज्ञों के मुताबिक इसमें काफी मात्रा में विटामिन्स और मिनरल्स होते हैं, जो शरीर को पोषण देने के लिए जरूरी होते हैं।

Also Read : Side Effects of Lead Poisoning : महंगे हो या सस्ते, वॉल पेंट से हो सकता है नुकसान, ऐसे करें बचाव

चने के साग के फायदे| Saag Khane Ke Fayde

Green Gram Leaves Benefits: ठंड के मौसम में यह साग सेहत के लिए है बेजोड
Green Gram Leaves Benefits: ठंड के मौसम में यह साग सेहत के लिए है बेजोड| Photo : Canva

1. चने के साग में फाइबर की प्रचूर मात्रा होती है। जिससे आंत में गुड बैक्टीरिया की संख्या बढाने में मदद मिलती है। इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्वों की मदद से आंतों की लाइनिंग को मजबूती मिलती है। इसके अलावा यह कई तरह की पेट संबंधी समस्याओं से बचाने (Green Gram Leaves Benefits) में भी मदद करता है।

2. चने का साग स्किन से फ्री रेडिकल्स को निकालने में भी मददगार है। इसके अलावा इसके सेवन से ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस में भी कमी आती है। इससे त्वचा में निखार आता है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडें, विटामिन ई, विटामिन के त्वचा की खूबसूरती को बेहतर करने मेें मदद करता है।

3. आंखों की रोशनी के लिए भी चने का साग औषधि से कम नहीं है। चने के साग में मौजूद विटामिन ई और विटामिन के की मौजूदगी आंखों की मांसपेशियों के पोषण के लिए बेहद जरूरी तत्व होते हैं। यह आंखों को हर लिहाज से स्वस्थ रखने में मदद करता है।

4. प्रदूषण से होने वाले दुष्प्रभाव को कम करने में भी चने का साग मदद कर सकता है। इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व प्रदूषण से होने वाली हृदय, त्वचा और सांस से संबंधित समस्या से बचाने में मदद करते हैं।

5. चने का साग डायबिटीज को नियंत्रित करता है। इसमें प्राकृतिक रूप से इंसुलिन निर्माण करने वाले तत्व पाए जाते हैं। कई विशेषज्ञ इस साग को डायबिटीज के मरीजों के रामबाण बताते हैं। जिन्हें डायबिटीज की बीमारी नहीं है, अगर वह चने के साग को नियमित रूप से अपने आहार में शामिल कर लें तो उन्हें डायाबिटीज होने को जोखिम भी बेहद कम हो जाता है।

6. चने के साग में कई प्रकार के स्वास्थ्यवर्धक प्रोटीन और पोटेशियम की मात्रा होती है। प्रोटीन और पोटेशियम हृदय स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभकारी बताया जाता है। यह हार्ट के मसल्स के लचीलेपन को बनाए रखता है और इसे मजबूती भी प्रदान करता है। जिससे हृदय में दवाब सहने की क्षमता बढती है।

Also Read : Diwali 2023 : 135 मिलियन मोटे लोगों की लिस्ट में आप भी न कहीं हो जाएं शामिल

7. चने के साग में पाए जाने वाले गुणकारी तत्व बीपी को भी नियंत्रित रखने में मदद करता है। इसके सेवन से ब्लड फ्लो में तेजी आती है। इसके अलावा हय ब्लड वैसल्स को भी मुलायम रखता है। इससे खून का प्रवाह आसानी से शरीर के विभिन्न हिस्से में पहुंच जाता है।


नोट: यह लेख मेडिकल रिपोर्टस से एकत्रित जानकारियों के आधार पर तैयार किया गया है।

अस्वीकरण: caasindia.in में प्रकाशित सभी लेख डॉक्टर, विशेषज्ञों व अकादमिक संस्थानों से बातचीत के आधार पर तैयार किए जाते हैं। लेख में उल्लेखित तथ्यों व सूचनाओं को caasindia.in के पेशेवर पत्रकारों द्वारा जांचा व परखा गया है। इस लेख को तैयार करते समय सभी तरह के निर्देशों का पालन किया गया है। संबंधित लेख पाठक की जानकारी व जागरूकता बढ़ाने के लिए तैयार किया गया है। caasindia.in लेख में प्रदत्त जानकारी व सूचना को लेकर किसी तरह का दावा नहीं करता है और न ही जिम्मेदारी लेता है। उपरोक्त लेख में उल्लेखित संबंधित बीमारी/विषय के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

 

caasindia.in सामुदायिक स्वास्थ्य को समर्पित हेल्थ न्यूज की वेबसाइट

Read : Latest Health News|Breaking News|Autoimmune Disease News|Latest Research | on https://www.caasindia.in|caas india is a multilingual website. You can read news in your preferred language. Change of language is available at Main Menu Bar (At top of website).
Join Whatsapp Channel Join Now
Join Telegram Group Join Now
Follow Google News Join Now
Avinash Jha
Avinash Jhahttps://caasindia.in
अविनाश झा एक Ankylosing Spondylitis warrior हैं और पिछले 10 वर्षों से एएस का सामना कर रहे हैं। पेशे से अकाउंट मैनेजर हैं। अविनाश पिछले 4 वर्षों से एएस वॉलेंटियर के तौर पर कार्य कर रहे हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Article

41 वर्ष की उम्र में आप भी पा सकते हैं श्वेता तिवारी जैसी फिटनेस AS warriors को जरूर होनी चाहिए ये जानकारी Health Benifits of Mango : बीपी की समस्या से आराम दिलाएगा आम Health Tips : आपके भोजन में अगर यह सब है शामिल तो कैल्शियम कभी नहीं होगा कम
41 वर्ष की उम्र में आप भी पा सकते हैं श्वेता तिवारी जैसी फिटनेस AS warriors को जरूर होनी चाहिए ये जानकारी Health Benifits of Mango : बीपी की समस्या से आराम दिलाएगा आम Health Tips : आपके भोजन में अगर यह सब है शामिल तो कैल्शियम कभी नहीं होगा कम