Monday, May 20, 2024
HomeCovid 19covid का जोखिम कई गुना बढ़ाती है ये आदत

covid का जोखिम कई गुना बढ़ाती है ये आदत

Join Whatsapp Channel Join Now
Join Telegram Group Join Now
Follow Google News Join Now

कोविड (covid) महामारी ने लोगों के जीवन को काफी हदतक प्रभावित किया है

नई दिल्ली।टीम डिजिटल : कोविड (covid) महामारी ने लोगों के जीवन को काफी हदतक प्रभावित किया है लेकिन कुछ बुरी आदतों को समय रहते छोड़ने का भी मौक़ा दिया है। अच्छी आदतों से जीवन का स्तर बेहतर होता है और गलत आदतों से जीवन की गुणवत्ता प्रभावित होती है।

No Tobacco Day, 31st May  कौन-सी चीज आपको धूम्रपान (smoking) करने के लिये प्रेरित करती हैं? गुस्सा? बोरियत? थकान? खुशी? धूम्रपान करने के लिये ये सभी मनोदशा जुड़ी हो सकती हैं ।जब आप नर्वस होते हैं तो सिगरेट पीने की जरूरत कहीं ज्यादा बढ़ सकती है। आपको ऐसा लगता है कि आपको दिगाम शांत करने के लिये सिगरेट की जरूरत है, लेकिन धूम्रपान करने से तनाव कम होने की बजाय और बढ़ जाता है।

ऐसा कहा जा सकता है कि कोविड-19 (covid) महामारी ने लाखों धूम्रपान करने वालों को धूम्रपान छोड़ने का कारण दिया है। ऐसा इसलिये है क्योंकि धूम्रपान करने वालों में कोविड (covid) महामारी ने लोगों के जीवन को काफी हदतक प्रभावित किया है लेकिन कुछ बुरी आदतों को समय रहते छोड़ने का भी मौक़ा दिया है। अच्छी आदतों से जीवन का स्तर बेहतर होता है और गलत आदतों से जीवन की गुणवत्ता प्रभावित होती है।)

का खतरा अधिक होता है। फ्लू सहित श्वसन संक्रमण के लिये धूम्रपान जोखिम का कारण साबित हुआ है। यह वायरल संक्रमण के खिलाफ इम्युन को कमजोर करता है।

इसे भी पढ़ें : ऑटोइम्यून डिसऑर्डर के मरीजों पर कितना असरदार है कोविड वैक्सीन ?

alt= " amol nayakwadi pic for post body "
लेखक : अमोल नायकवाड़ी, संयुक्त प्रबंध निदेशक और प्रिवेंटिव हेल्थकेयर स्पेशलिस्ट, इंडस हेल्थ प्लस

दुनिया भर में लगभग धूम्रपान करने वाले 60% लोग धूम्रपान छोड़ना चाहते हैं, लेकिन दुनिया की केवल 30% आबादी के पास ही तंबाकू को छोड़ने की गुणवत्तापूर्ण सेवाएँ उपलब्ध हैं। इंडस हेल्थ प्लस के आकंड़ों के अनुसार 7% आबादी लगातार धूम्रपान कर रही है और लगभग 3% ने अतीत में धूम्रपान किया है लेकिन अब धूम्रपान नहीं कर रहे हैं।

तंबाकू सेवन के बारे में अध्ययन से पता चला है कि 8% लोगों को तंबाकू चबाने, सेवन करने की आदत थी और इनमें से 2% अब इन उत्पादों का सेवन नहीं कर रहे हैं।

धूम्रपान किए बिना तनाव का मुकाबला कैसे करें, इसे सीखना कठिन है, खासकर जब आप पहली बार धूम्रपान छोड़ रहे हों। कुछ साधन और थोड़े अभ्यास के द्वारा आप इस कठिनाई को इतना कम कर सकते हैं जितना कि आपने उम्मीद नहीं की होगी।

निकोटिन की लत से ऐसे उबरें : 

निकोटिन की लत से उबरने से जुड़ी दो मुख्य चीजें हैं – शारीरक रूप से निकोटिन विड्रॉवल और धूम्रपान से जुड़ी औपचारिक भावना का उपचार।

 निकोटिन विड्रॉवल का प्रबंधन :

आपका शरीर निकोटिन विड्रॉवल और आप जो सिगरेट पीते हैं (smoking) उसके अंदर मौजूद हजारों रसायनों के प्रति प्रतिक्रिया करता है। रिकवरी का यह चरण अपना अलग तनाव पैदा करता है, जिसको सँभालने के लिये आपको तैयार रहने की जरूरत है। निकोटीन की लत से जल्दी ठीक होने के सह-उत्पाद के रूप में तनाव के स्थान के बारे में जागरूकता और असुविधा को दूर करने के लिये कुछ उपकरण आपको इसे सफलतापूर्वक प्रबंधित करने में मदद करेंगे।

इसे भी पढ़ें : कहीं प्लेसेंटा में तो नहीं छुपा है ऑटोइम्यून डिसऑर्डर का राज !

मानिसक चुनौतियों को कैसे सँभालें :

भावनात्मक रूप से, धूम्रपान बंद करना आपको सिगरेट से अलग होने की तकलीफ से निपटने के लिये बैसाखी का काम करता है, जिस पर आप अपनी भावनाओं को प्रबंधित करने के लिये निर्भर थे। मानसिक परेशानियाँ, धूम्रपान बंद करने के सबसे मुश्किल पहलुओं में से एक है।

निकोटिन बंद करने पर तनाव का प्रबंधन :

खुद के साथ धैर्यवान बने रहें और परिणाम नजर आने के लिये रिकवरी की प्रक्रिया को समय दें। निकोटिन की लत समय के साथ चली जाती है। यह तब होता है जब पुराने जुड़ाव एक के बाद एक खत्म होते जाते हैं, और आप सेहतमंद विकल्पों के साथ उनकी जगह दूसरी आदतें शामिल करते जाते हैं। जब आप धूम्रपान किया करते थे उसकी तुलना में, समय के साथ धूम्रपानरहित रहने के तनाव का प्रबंधन करने में आपको आसानी महसूस होगी।

यहाँ कुछ तरीके दिए गए हैं जिससे धूम्रपान की लत से उबरना आसान हो जाता है :

इसे भी पढ़ें : इन बीमारियों के प्रति जागरूक रहें ankylosing Spondylitis मरीज

1. सही रूप में संतुलित खाना खायें :

आपके शरीर को अच्छी  क्वालिटी के पोषण की जरूरत होती है, क्योंकि यह आपके शरीर से टॉक्सिंस को बाहर निकलने में मदद करते हैं। सिगरेट कई सारे पोषक तत्वों और विटामिन्स को कम कर देता है, इसलिये आपको संतुलित आहार लेने पर ध्यान केंद्रित करने की जरूरत होगी।

2. पानी पीयें :

पानी धूम्रपान बंद करने में मदद कर सकता है। यह आपको डिटॉक्स करने में मदद करता है और यह वैक्यूम बस्टर के तौर पर सही तरीके से काम करता है। हाइड्रेट रहना आपके शरीर के लिये भी अच्छा है।

3. कैफीन की मात्रा को कम करें :

जब आप धूम्रपान बंद करने की प्रक्रिया के दौरान अगर आप कैफीनयुक्त कॉफी या सोडा लेते हैं तो यह आपकी एंजाइटी और तनाव को बढ़ा सकता है। यदि आप चाहें तो विड्रॉवल की प्रक्रिया से निकलने के बाद शायद आप दोबारा कॉफी पी पाएंगे भले ही पहले जितनी मात्रा में पीते थे, उतना नहीं हो।

4. गुनगुने पानी से स्नान करें :

स्नान का आनंद लेना शांत होने और आराम करने का एक शानदार तरीका है। कुछ मोमबत्तियाँ जलाएं, सुगंधित बाथ सॉल्ट को अपने बाथटब में डालें। एक अध्ययन में पाया गया कि जो लोग नियमित रूप से स्नान करते हैं उनके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार होता है। गुनगुने पानी से नहाने से थकान और चिड़चिड़ापन कम हो सकता है, जो निकोटीन विड्रॉवल के दो सामान्य लक्षण हैं।

5. मसाज करवाएँ :

हमारे शरीर में मांसपेशियों में होने वाले तनाव को बनाए रखने की प्रवृत्ति होती है, इसलिये तनाव को कम करने के लिये अच्छा मसाज लाभदायक होता है। अपनी मांसपेशियों से तनाव को कम करने के लिये पार्टनर से मालिश करने के बारे में पूछें। पूरे शरीर की मालिश करवाना कमाल का अनुभव होता है, लेकिन आपकी गर्दन, कंधे, चेहरे और सिर पर 10 से 15 मिनट की मालिश भी चमत्कारिक हो सकती है। आप एक ऑटो मसाज टूल जैसे कि मसाज पिस्टल या मसाज कुशन भी आजमा सकते हैं।

6. पर्याप्त नींद लें :

धूम्रपान बंद करने के शुरुआती कुछ दिन थका देने वाले हो सकते हैं क्योंकि आपका शरीर और दिमाग तनावग्रस्त हो जाता है। शोध से पता चला है कि आप जितना कम धूम्रपान करेंगे, आपको उतनी ही कम थकान महसूस होगी। एक अध्ययन से पता चला है कि धूम्रपान छोड़ने वाले लोगों में थकान छह सप्ताह के बाद चरम पर होती है और फिर कम हो जाती है।

covid का जोखिम कई गुना बढ़ाती है ये आदत

[table “5” not found /]


नोट: यह लेख मेडिकल रिपोर्टस से एकत्रित जानकारियों के आधार पर तैयार किया गया है।

अस्वीकरण: caasindia.in में प्रकाशित सभी लेख डॉक्टर, विशेषज्ञों व अकादमिक संस्थानों से बातचीत के आधार पर तैयार किए जाते हैं। लेख में उल्लेखित तथ्यों व सूचनाओं को caasindia.in के पेशेवर पत्रकारों द्वारा जांचा व परखा गया है। इस लेख को तैयार करते समय सभी तरह के निर्देशों का पालन किया गया है। संबंधित लेख पाठक की जानकारी व जागरूकता बढ़ाने के लिए तैयार किया गया है। caasindia.in लेख में प्रदत्त जानकारी व सूचना को लेकर किसी तरह का दावा नहीं करता है और न ही जिम्मेदारी लेता है। उपरोक्त लेख में उल्लेखित संबंधित बीमारी/विषय के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

 

caasindia.in सामुदायिक स्वास्थ्य को समर्पित हेल्थ न्यूज की वेबसाइट

Read : Latest Health News|Breaking News|Autoimmune Disease News|Latest Research | on https://www.caasindia.in|caas india is a multilingual website. You can read news in your preferred language. Change of language is available at Main Menu Bar (At top of website).
Join Whatsapp Channel Join Now
Join Telegram Group Join Now
Follow Google News Join Now
Caas India - Ankylosing Spondylitis News in Hindi
Caas India - Ankylosing Spondylitis News in Hindihttps://caasindia.in
Welcome to caasindia.in, your go-to destination for the latest ankylosing spondylitis news in hindi, other health news, articles, health tips, lifestyle tips and lateset research in the health sector.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Article