Monday, April 15, 2024
HomeAnkylosing SpondylitisAnkylosing Spondylitis (AS) है तो Syndesmophytes के बारे में जरूर जानें 

Ankylosing Spondylitis (AS) है तो Syndesmophytes के बारे में जरूर जानें 

शोधकर्ता यह तो जानते हैं कि सिंडेस्मोफाइट्स एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस की एक प्रमुख पहचान है लेकिन वह अबतक यह पता नहीं कर पाए हैं कि हड्डियों में होने वाली यह अनिश्चित वृद्धि क्यों विकसित होती है।

Join Whatsapp Channel Join Now
Join Telegram Group Join Now
Follow Google News Join Now

स्पाइन में स्थाई क्षति (Permanent Damage to the Spine) का कारण है सिन्डेस्मोफाइट्स

Ankylosing Spondylitis and Syndesmophytes in Hindi : एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस (HLA B@7) और सिन्डैस्मोफाइट्स के बीच काफी गहरे लिंक (Link) हैं। रीढ की हड्डी में स्थाई क्षति इसी की वजह से होती है।
सिन्डेस्मोफाइट्स का निर्माण रीढ़ की हड्डी के स्नायुबंधन (ligaments) में होता है। जिसके कारण कशेरुकाएं (vertebrae) आपस में जुड जाती हैं। जिसे आम भाषा में बोनी फ्यूजन (bony fusion) या जोडों का फ्यूज होना भी कहते हैं। हड्डियों की ये असामान्य वृद्धि (abnormal bone growth) कभी-कभी अन्य कारणों से भी हो सकती है। हालांकि, सिन्डेस्मोफाइट्स एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस की प्रमुख विशेषता है।
हम यहां आपको सिंडेस्मोफाइट्स और एएस (Ankylsoing Spondylitis) के बीच के संबंधों को बता रहे हैं। जिसमें हम इसके संभावित कारणों और इसके विकसित होने के संकेतों और डॉक्टर द्वारा इसके निदान की प्रक्रिया पर चर्चा कर रहे हैं। सिंडीस्मोफाइट्स एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस के मरीजों में होने वाला एक प्रमुख परिवर्तन है। जिसके कारण दर्द, रीढ़ में कठोरता (stiffness in spine) और गतिशीलता की हानि (loss of mobility) हो सकती है।

सिंडेस्मोफाइट्स (Syndesmophytes) का कारण (Cause) नहीं जानते वैज्ञानिक 

Ankylosing Spondylitis (AS) है तो syndesmophytes के बारे में जरूर जानें
सिंडेस्मोफाइट्स का कारण नहीं जानते वैज्ञानिक
शोधकर्ता यह तो जानते हैं कि सिंडेस्मोफाइट्स एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस की एक प्रमुख पहचान है लेकिन वह अबतक यह पता नहीं कर पाए हैं कि हड्डियों में होने वाली यह अनिश्चित वृद्धि क्यों विकसित होती है। 2020 के एक अध्ययन के लेखकों के मुताबिक, ऑस्टियोपोरोसिस (osteoporosis) के रूप में जाना जाने वाला प्रणालीगत हड्डी का नुकसान (systemic bone loss) और नई हड्डी का निर्माण (new bone formation) दोनों ही समस्या एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस के मरीजों में पाई जाती है।
पहले शोधकर्ताओं ने यह अनुमान लगाया था कि सूजन की वजह से हड्डी नष्ट हो जाती है, जिसके बाद हड्डी की मरम्मत (bone repair) करने और रीढ़ को स्थिरता (spine stability) प्रदान करने के लिए नई हड्डी या सिंडेस्मोफाइट्स के निर्माण की प्रक्रिया (Process of formation of syndesmophytes) शरीर में अपने आप शुरू हो जाती है। हालांकि, 2020 के अध्ययन में पाया गया कि अस्थि खनिज घनत्व (bone mineral density) और सिंडेस्मोफाइट्स के निर्माण के बीच किसी तरह का संबंध नहीं है।
उसी वर्ष के एक अन्य शोध में यह सामने आया कि एडवांस स्टेज के एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस मरीजों में सिंडेस्मोफाइट्स की प्रगति (Advanced Stage Ankylosing Spondylitis Patients) के जोखिम कारकों में वृद्धावस्था और लंबे समय से बीमारी होना शामिल है। एएस से पीड़ित व्यक्ति अक्सर पीठ से जुड़े लक्षणों का अनुभव करता है, जिसमें कठोरता और गति की सीमित सीमा (limited range of motion) शामिल है।


2 वर्षों में ही विकसित होने लगती है सिंडेस्मोफाइट्स

कुछ शोध से हैरान करने वाले संकेत मिलते हैं। जिससे यह पता चलता है कि 2 वर्षों के दौरान ही लगभग 29-37 प्रतिशत एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस मरीजों में नए सिंडेस्मोफाइट्स (Syndesmophytes in Ankylosing Spondylitis Patients) विकसित होने लगते हैं। इसका मतलब यह है कि लगभग दो-तिहाई लोगों को इस समय सीमा में सिंडेस्मोफाइट्स विकसित होने लगता है। जैसे-जैसे इस स्थिति का विकास होता है, रीढ की हड्डियां आपस में जुडनी शुरू हो जाती है। जिसके बाद एक मरीज अपने शरीर में लचीलापन और गतिशीलता में आने वाली कमी को महसूस करने लगता है।

Ankylosing Spondylitis : रीढ की हड्डी में फ्रैक्चर के खतरे को बढा सकता है सिंडेस्मोफाइट्स 

एडवांस स्टेज के वैसे एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस वाले मरीज, जिनकी गतिशीलता काफी कम हो चुकी है और वे अपनी गतिशीलता भी काफी हदतक खो चुके हैं, ऐसे मरीजों में सिडेस्मोफाइट्स की वजह से रीढ की हड्डी में फ्रैक्चर का खतरा (Risk of spinal fracture) बढ सकता है। फ्रैक्चर की वजह से तंत्रिकाओं का भी नुकसान (nerve damage) पहुंच सकता है।

गिरने के बाद अगर ऐसा अनुभव हो तो तत्काल डॉक्टर को दिखाएं 

  • रीढ़ की हड्डी में नया या बिगड़ा हुआ दर्द
  • बांहों में सुन्नता या झुनझुनी
  • पैरों में सुन्नता या झुनझुनी
  • गर्दन का असंतुलित होना

कैसे पता चलता है सिंडेमोफाइट्स है या नहीं ?

एक डॉक्टर सिंडेस्मोफाइट्स का पता लगाने के लिए एक्स-रे या एमआरआई स्कैन जैसे इमेजिंग परीक्षणों का उपयोग कर सकते है। हालांकि एक्स-रे में बीमारी के शुरुआती चरणों में कोई वृद्धि नहीं दिखाई देगी। कई बार सिंडैस्मोफाइट्स का पता लगाने के लिए सीटी स्कैन भी किया जा सकता है।
एक मरीज खुद से इसकी पहचान करने के लिए अपने शरीर की गतिशीलता और लचक की निगरानी खुद भी रख सकता है। अगर प्राकृतिक गतिशीलता में किसी तरह की कमी हो या अचानक शरीर की लचक में रूकावट आने लगे तो एक एंकिलॉजिंग स्पॉन्डिलाइ​टिस मरीज को तत्काल अपने रूमेटॉलाजिस्ट (rheumatologist) से संपर्क करना चाहिए।

नोट: यह लेख मेडिकल रिपोर्टस से एकत्रित जानकारियों के आधार पर तैयार किया गया है।

अस्वीकरण: caasindia.in में प्रकाशित सभी लेख डॉक्टर, विशेषज्ञों व अकादमिक संस्थानों से बातचीत के आधार पर तैयार किए जाते हैं। लेख में उल्लेखित तथ्यों व सूचनाओं को caasindia.in के पेशेवर पत्रकारों द्वारा जांचा व परखा गया है। इस लेख को तैयार करते समय सभी तरह के निर्देशों का पालन किया गया है। संबंधित लेख पाठक की जानकारी व जागरूकता बढ़ाने के लिए तैयार किया गया है। caasindia.in लेख में प्रदत्त जानकारी व सूचना को लेकर किसी तरह का दावा नहीं करता है और न ही जिम्मेदारी लेता है। उपरोक्त लेख में उल्लेखित संबंधित बीमारी/विषय के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

 

caasindia.in सामुदायिक स्वास्थ्य को समर्पित हेल्थ न्यूज की वेबसाइट

Read : Latest Health News|Breaking News|Autoimmune Disease News|Latest Research | on https://www.caasindia.in|caas india is a multilingual website. You can read news in your preferred language. Change of language is available at Main Menu Bar (At top of website).
Join Whatsapp Channel Join Now
Join Telegram Group Join Now
Follow Google News Join Now
Caas India - Ankylosing Spondylitis News in Hindi
Caas India - Ankylosing Spondylitis News in Hindihttps://caasindia.in
Welcome to caasindia.in, your go-to destination for the latest ankylosing spondylitis news in hindi, other health news, articles, health tips, lifestyle tips and lateset research in the health sector.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Article