Sunday, March 3, 2024
HomeLatest Researchतीन साल बाद भी जारी है कोरोना का कहर टीनएजर्स हो रहे...

तीन साल बाद भी जारी है कोरोना का कहर टीनएजर्स हो रहे प्रभावित

Join Whatsapp Channel Join Now
Join Telegram Group Join Now
Follow Google News Join Now

अध्ययन में हुए चौंंकाने वाले खुलासे 

नई दिल्ली। टीम डिजिटल :
करोना (Corona) महामारी की शुरूआत को तीन साल बीत चुके हैं लेकिन कोरोना का असर (effect of corona) कहीं न कहीं प्रभावित कर रहा है। भले ही कोरोना संक्रमण (corona infection) के मामले अब कम हो गए हैं, लोगों को मास्क और अन्य तरह की पाबंदियों से काफी हदतक राहत भी मिलती दिख रही है लेकिन कोरोना का असर अब भी कहीं न कहीं कायम है। ताजा अध्ययन (Latest study on the effect of corona) में चौंकाने वाले खुलासे सामने आए हैं। जो सीधे तौर पर टीनएजर्स के स्वास्थ्य को लेकर बडी चुनौती साबित हो रही है।  

टीनएजर्स के दिमाग पर हावी है कोरोना का असर (Corona’s influence dominates the minds of teenagers)

तीन साल बाद भी जारी है कोरोना का कहर टीनएजर्स हो रहे प्रभावित
तीन साल बाद भी जारी है कोरोना का कहर टीनएजर्स हो रहे प्रभावित
बायोलॉजिकल साइकियाट्री: ग्लोबल ओपन साइंस जर्नल (Biological Psychiatry: Global Open Science Journal) में प्रकाशित ताजा अध्ययन से इस बात का पता चलता है कि कोरोना महामारी के दौरान लगाए गए लॉकडाउन और इस दौरान होने वाले मानसिक तनाव का असर टीनएजर्स के दिमाग पर (Lockdown and the effect of mental stress during this time on the brain of teenagers) पड रहा है। इस अध्ययन के मुताबिक इस वजह से टीनएजर्स का दिमाग समय से पहले उम्रदराज हो गया है। 
[irp posts=”8816″ ]

महामारी के पहले और बाद में ब्रेन स्कैन से खुलासा   

रिसर्च में अध्ययनकर्ताओं ने 128 बच्चों को शामिल किया। विशेषज्ञ इसमें से आधे बच्चों के दिमाग का स्कैन पिछले आठ वर्षों से दूसरे अध्ययन के लिए कर रहे थे। इन बच्चों का दो स्कैन होेने के बाद तीसरा स्कैन मार्च 2020 में किया जाना था लेकिन कोरोना महामारी की वजह से इस पक्रिया को रोकनी पड गई थी। अध्ययनकर्ताओं ने महामारी से पहले किए और बाद मेें होने वाले ब्रेन स्कैन की तुलना करने की योजना बनाई। इसके लिए विशेषज्ञों ने 16 साल की उम्र के बच्चों को चुना। चयनित बच्चों में से 50% ऐसे थे, जिनके ब्रेन को महामारी से पहले स्कैन किया गया था। जबकि, इनमें से 50% ऐसे बच्चे थे, जो नए थे और इनकी ब्रेन स्कैन महामारी के बाद की गई। इस अध्ययन में उम्र, जेंडर, प्यूबर्टी, सोशल-इकोनॉमिक स्टेटस और बचपन के स्ट्रेस जैसे पैमानों को एक समान रखा गया।

महामारी के बाद टीनएजर्स पर हावी है डिप्रेशन की समस्या (Teenagers are dominated by the problem of depression after the pandemic)

तीन साल बाद भी जारी है कोरोना का कहर टीनएजर्स हो रहे प्रभावित
तीन साल बाद भी जारी है कोरोना का कहर टीनएजर्स हो रहे प्रभावित
अध्ययन के नतीजों का जब विश्लेषण किया गया तो विशेषज्ञों के सामने चौंकाने वाले नतीजे थे। जिसमें यह पाया गया कि कोरोना महामारी का अनुभव करने वाले बच्चों में डिप्रेशन, एंग्जाइटी जैसे मेंटल हेल्थ डिसऑर्डर्स हावी हो रहे हैं। उनके दिमाग के हिप्पोकैम्पस और एमिग्डाला पार्ट्स भी विकसित हो गया है। यह याददाश्त को नियंत्रित करने और डर जैसी भावनाओं को प्रोसेस करने में सहायता करता है। 
अध्ययनकर्ताओं के मुताबिक, महामारी काल के 10 महीनों के दौरान ही बच्चों का दिमाग सामान्य के मुकाबले तीन साल अधिक उम्रदराज पाया गया। यह बदलाव ठीक वैसा ही है, जैसे बचपन में ट्रॉमा, दुर्व्यवहार जैसे बेहद बुरे हालातों से गुजरते बच्चों के साथ होता है। ऐसे बच्चे के बडे होने पर डायबिटीज, कैंसर और दिल की बीमारी का जोखिम एक सामान्य बच्चों के मुकाबले अधिक होता है। 
Read : Latest Health News|Breaking News |Autoimmune Disease News |Latest Research | on https://caasindia.in | caas india is a Multilanguage Website | You can read news in your preferred language. Change of language is available at the beginning of the post (before the highlights)..  Photo : freepik

नोट: यह लेख मेडिकल रिपोर्टस से एकत्रित जानकारियों के आधार पर तैयार किया गया है।

अस्वीकरण: caasindia.in में प्रकाशित सभी लेख डॉक्टर, विशेषज्ञों व अकादमिक संस्थानों से बातचीत के आधार पर तैयार किए जाते हैं। लेख में उल्लेखित तथ्यों व सूचनाओं को caasindia.in के पेशेवर पत्रकारों द्वारा जांचा व परखा गया है। इस लेख को तैयार करते समय सभी तरह के निर्देशों का पालन किया गया है। संबंधित लेख पाठक की जानकारी व जागरूकता बढ़ाने के लिए तैयार किया गया है। caasindia.in लेख में प्रदत्त जानकारी व सूचना को लेकर किसी तरह का दावा नहीं करता है और न ही जिम्मेदारी लेता है। उपरोक्त लेख में उल्लेखित संबंधित बीमारी/विषय के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

 

caasindia.in सामुदायिक स्वास्थ्य को समर्पित हेल्थ न्यूज की वेबसाइट

Read : Latest Health News|Breaking News|Autoimmune Disease News|Latest Research | on https://www.caasindia.in|caas india is a multilingual website. You can read news in your preferred language. Change of language is available at Main Menu Bar (At top of website).
Join Whatsapp Channel Join Now
Join Telegram Group Join Now
Follow Google News Join Now
Caas India - Ankylosing Spondylitis News in Hindi
Caas India - Ankylosing Spondylitis News in Hindihttps://caasindia.in
Welcome to caasindia.in, your go-to destination for the latest ankylosing spondylitis news in hindi, other health news, articles, health tips, lifestyle tips and lateset research in the health sector.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Article

41 वर्ष की उम्र में आप भी पा सकते हैं श्वेता तिवारी जैसी फिटनेस AS warriors को जरूर होनी चाहिए ये जानकारी Health Benifits of Mango : बीपी की समस्या से आराम दिलाएगा आम Health Tips : आपके भोजन में अगर यह सब है शामिल तो कैल्शियम कभी नहीं होगा कम Health Tips : डायबिटीज है और कंधे में भी होता है दर्द Health Tips : दर्द की दवा है मूंगफली का तेल Health Tips : सर्दी और प्रदूषण के प्रभाव से बचाएंगे ये सुपर ड्रिंक Health Tips : स्वास्थ्य के लिए बेहतर कौन? काला या सफेद नमक Heart Health : हार्ट का डॉक्टर माना जाता है यह पीला जूस Leptospirosis: जानवरों के पेशाब से फैलती है ये बीमारी 
41 वर्ष की उम्र में आप भी पा सकते हैं श्वेता तिवारी जैसी फिटनेस AS warriors को जरूर होनी चाहिए ये जानकारी Health Benifits of Mango : बीपी की समस्या से आराम दिलाएगा आम Health Tips : आपके भोजन में अगर यह सब है शामिल तो कैल्शियम कभी नहीं होगा कम Health Tips : डायबिटीज है और कंधे में भी होता है दर्द Health Tips : दर्द की दवा है मूंगफली का तेल Health Tips : सर्दी और प्रदूषण के प्रभाव से बचाएंगे ये सुपर ड्रिंक Health Tips : स्वास्थ्य के लिए बेहतर कौन? काला या सफेद नमक Heart Health : हार्ट का डॉक्टर माना जाता है यह पीला जूस Leptospirosis: जानवरों के पेशाब से फैलती है ये बीमारी